करूणानिधि, karunanidhi, karunanidhi family, karunanidhi great grandson, karunanidhi family tree structure, dmk family tree, kalaignar family tree

करुणानिधि की जीवनी-Biography of Karunanidhi in Hindi

करूणानिधि तमिलनाडु के पांच बार सीएम बने. 60 साल से ज्यादा के राजनीतिक करिअर में करुणानिधि के नाम सबसे ज्यादा 13 बार विधायक बनने का रिकॉर्ड भी हैं. अपने पूरे करिअर में करूणानिधी एक भी चुनाव नहीं हारे हैं. तमिल राजनीति के सबसे बड़े चेहरे करुणानिधि पॉलीटिक्स में आने से पहले फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े रहे. जे. जयललिता करुणानिधि की प्रमुख राजनितिक प्रतिद्वंद्वी थी.

संक्षिप्त जीवनी – Brief Biography

तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री और द्रविड़ मुन्नेत्र कड़गम (डीएमके-DMK) अध्यक्ष एम. करुणानिधि ने अपने करिअर की शुरुआत तमिल फ़िल्मो में एक पटकथा लेखक के रूप में की थी. राजनीति में जाने की मंशा उनके लेखन में साफ झलकता था. द्रविड़ आंदोलन से जुड़े होने के कारण सामाजिक सुधार की कहानियां लिखने के लिए करुणानिधि मशहूर थे.

जस्टिस पार्टी के अलगिरिस्वामी के भाषण से प्रेरित हो कर करुणानिधि ने कम उम्र में ही राजनीति में प्रवेश कर लिया था. उस दौर में करुणानिधि ने हिंदी विरोधी आंदोलन में बढ़—चढ़ कर भाग लिया करते थे. द्रविड़ आंदोलन में करुणानिधि ने अपने साथियों के साथ मिल कर अनेको आंदोलन और उग्र प्रदर्शन भी किये जिसके लिए उन्हे जेल तक जान पड़ा.

कुछ समय बाद करुणानिधि ने द्रविड़ आन्दोलन के पहले छात्र संगठन “तमिलनाडु तमिल मनावर मंद्रम’ की स्थापना की और साथ ही “मुरासोली” नामक एक पत्रिका का प्रकाशन भी शुरू किया. द्रविड़ आंदोलन में किये गए काम की वजह से तमिल राजनीति में करुणानिधि की जनाधार मजबूत हुआ और उनके राजनैतिक जीवन में शीर्ष तक पहुंचने में द्रविड़ आंदोलन मददगार साबित होने वाला प्रमुख कदम बना.

Early life- करूणानिधी का आरम्भिक जीवन

करुणानिधि का पूरा नाम मुत्तुवेल करुणानिधि है. इनका जन्म 3 जून, 1924 के दिन ब्रिटिश सरकार के अधीन भारत के नागपट्टिनम के तिरुक्कुभलइ में दक्षिणमूर्ति के रूप में हुआ था. करुणानिधि का संबंध इसाई वेल्लालर समुदाय से हैं. इनके पिता का नाम मुत्तुवेल और माँ का नाम अंजुगम था.

एम करूणानिधि ने तीन बार शादी की उनकी पहली पत्नी का नाम पद्मावती दूसरी का दयालु आम्माल और तीसरी पत्नी का नाम राजात्तीयम्माल है. करूणानिधि की पहली पत्नी पद्मावती का निधन विवाह के कुछ सालो बाद ही हो गया था.

पद्मावती ने करूणानिधि के बड़े पुत्र एम.के. मुत्तु को जन्म दिया था. उनकी दूसरी पत्नी दयालु आम्माल से उन्हे अज़गिरी, स्टालिन, दो पुत्र और एक पुत्री सेल्वी ने जन्मे लिया था. करूणानिधि की तीसरी पत्नी राजात्तीयम्माल की पुत्री का नाम कनिमोझी है जो राज्यसभा की सांसद है.

करूणानिधि का सबसे विवादास्पद बयान और आरोप

सितंबर 2007 में एम करुणानिधि ने भगवान राम पर अपने बयान में कहा की – “लोग कहते हैं कि सत्रह लाख साल पहले एक आदमी हुआ था. उसका नाम श्री राम था. उसके बनाए रामसेतु (पुल) को हाथ ना लगायें. कौन था ये राम? और किस इंजीनियरिंग कॉलेज से ग्रेजुएट हुआ था? कहां है इसका सबूत?”

एलटीटीई के साथ सबंध का भी लगा करूणानिधि पर दाग

राजीव गाँधी की हत्या के बाद जस्टिस जैन कमीशन ने अपनी अंतरिम रिपोर्ट में लिखा की एम. करूणानिधि लिबरेशन टाइगर्स ऑफ तमिल इलम को बढ़ावा देने के लिए जिम्मेदार है.

करूणानिधि पर तात्कालिक भारत के बड़ा टेलीविजन नेटवर्क सन नेटवर्क चलाने वाले कलानिधि मारन की मदद करने का आरोप लगाया गया है.

करूणानिधि का राजनितिक जीवन

अपने ओजस्वी भाषण और लेखन के लिए मशहूर करूणानिधि ने द्रविड़ आंदोलन से अपने राजनैतिक जीवन की शुरूआत की थी. तमिलनाडु की राजनीती में अपने लंबे करिअर के दौरान वे पार्टी और सरकार में विभिन्न पदों पर रह. करूणानिधि तिरुचिरापल्ली जिले के कुलिथालाई विधानसभा से 1957 में चुनाव जीत कर तमिलनाडु विधानसभा के लिए पहली बार सदस्य चुना गया.

करूणानिधि डीएमके कोषाध्यक्ष बने और 1962 में राज्य विधानसभा में विपक्ष के उपनेता रहे. साल 1967 में जब डीएमके पुनः सत्ता में आई तो करूणानिधि उस सरकार में सार्वजनिक कार्य मंत्री बने.दो साल बाद ही डीएमके के संस्थापक सीएन अन्नादुरई की मोत हो गई और साल 1969 में करूणानिधि पार्टी के शिर्ष नेता के साथ ही अन्नादुरई की जगह तमिलनाडु के मुख्यमंत्री बने. अपने लम्बे राजनीतिक जीवन में वे 13 बार विधायक बने जो अपने आप में एक रिकॉर्ड है. करूणानिधि पर राजनीती में परिवारवाद करने के भी आरोप लगे.

कब-कब रहे करूणानिधि मुख्यमंत्री

1

चौथी विधानसभा

10 फरवरी  1969

5 जनवरी  1971

2

पाँचवीं विधानसभा

15 मार्च  1971

31 जनवरी  1976

3

नवी  विधानसभा

27 जनवरी 1989

30 जनवरी 1991

4

ग्यारहवी विधानसभा

13 मई  1996

14 मई  2001

5

तेरहवी  विधानसभा

13  मई 2006

14  मई 2011

Read More:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *